गोखरू – Gokhru परिचय, गुण धर्म और औषधीय प्रयोग।

  गोखरू परिचय (Gokhru Introduction) गोखरू पुरुषो और महिलाओ के रोगो के लिए रामबाण औषिधि गोखरू या ‘गोक्षुर’ भूमि पर फ़ैलने वाला छोटा प्रसरणशील क्षुप है जो कि आषाढ़ और श्रावण मास मे प्राय हर प्रकार की जमीन या खाली जमीन पर उग जाता है। पत्र खंडित और फूल पीले रंग के आते हैं जो …

गोखरू – Gokhru परिचय, गुण धर्म और औषधीय प्रयोग। Read More »

पीलिया -Jaundice कारण, लक्षण, घरेलू उपाय और उपचार

परिचय :-गर्मियों के मौसम में सबसे ज्यादा होने वाली 5 बीमारियों में से पीलिया जिसे  जॉइंडिस भी कहते है। साधारण लोग वायरल हैपेटाइटिस या जोन्डिस को पीलिया के नाम से जानते हैं। पीलिया रोग बहुत ही सूक्ष्‍म विषाणु (वाइरस) से होता है। शुरू में यह रोग मामूली होता है तब इसके लक्षण दिखाई नहीं पडते हैं, परन्‍तु जब यह …

पीलिया -Jaundice कारण, लक्षण, घरेलू उपाय और उपचार Read More »

तेजपत्ता -Tej Patta परिचय, गुण धर्म और औषधीय प्रयोग।

परिचय (Introduction)             इसको तमालपत्र, तेज पात या तेजपत्ता कहते हैं। तेजपत्ता का पेड़ हिमालय के पर्वतीय क्षेत्र में पाया जाता है। आमतौर पर यह घास-फूस श्रेणी का पौधा होता है। लेकिन समय के साथ यह छोटे पेड का रूप ले लेता है। तेजपत्ता सदा हरा रहने वाला पेड़ है। …

तेजपत्ता -Tej Patta परिचय, गुण धर्म और औषधीय प्रयोग। Read More »

आक -Madar परिचय, गुण धर्म और घरेलू औषधीय प्रयोग।

परिचय :- परंपरिक  चिकित्सा /आयुर्वेद में हजारों सालों से सोंठ का प्रयोग किया जा रहा है। पहाड़ी अदरक गोटे- गोटे अधिक मोटे ककर्श गांठदार और कम लंबे गेरूये रंग की वनस्पति का कंद हैं। जो 1 से 2 इंची मोटा होता हैं। यह कार्तिक, माघ और फागुन में लगता हैं। बंगाल की सोंठ जो है …

आक -Madar परिचय, गुण धर्म और घरेलू औषधीय प्रयोग। Read More »

सोंठ -Sonth परिचय, गुण धर्म और घरेलू औषधीय प्रयोग।

परिचय :- परंपरिक  चिकित्सा /आयुर्वेद में हजारों सालों से सोंठ का प्रयोग किया जा रहा है। पहाड़ी अदरक गोटे- गोटे अधिक मोटे ककर्श गांठदार और कम लंबे गेरूये रंग की वनस्पति का कंद हैं। जो 1 से 2 इंची मोटा होता हैं। यह कार्तिक, माघ और फागुन में लगता हैं। बंगाल की सोंठ जो है …

सोंठ -Sonth परिचय, गुण धर्म और घरेलू औषधीय प्रयोग। Read More »

पिप्पली-Piper परिचय, गुण धर्म और घरेलू औषधीय प्रयोग।

परिचय :-  पिप्पली को पीपर भी कहते हैं, यह छोटी और बड़ी दो प्रकार की होती है, जिनमें से छोटी ज्यादा गुणकारी होती है और यही ज्यादातर प्रयोग में ली जाती है। पिप्पली के फल कई छोटे फलों से मिल कर बना होता है, जिनमें से हरेक एक खसखस के दाने के बराबर होता है। …

पिप्पली-Piper परिचय, गुण धर्म और घरेलू औषधीय प्रयोग। Read More »

मासिक-धर्म के विकार (Menstrual Disorders) कारण, लक्षण घरेलू उपाय और उपचार

परिचय :- महिलाओं के जीवन की एक प्राकृतिक प्रक्रिया है माहवारी।10 से 15 साल की आयु की लड़की के अण्डाशय हर महीने एक विकसित डिम्ब (अण्डा) उत्पन्न करता है। वह अण्डा जब गर्भाशय में पहुंचता है, उसका अस्तर रक्त और तरल पदार्थ से गाढ़ा हो जाता है। ऐसा इसलिए होता है कि यदि अण्डा उर्वरित …

मासिक-धर्म के विकार (Menstrual Disorders) कारण, लक्षण घरेलू उपाय और उपचार Read More »

नपुंसकता (मर्दाना कमज़ोरी) के कारण, लक्षण, घरेलू उपाय/उपचार

परिचय :- आयुर्वेद एक बहुत ही सरल चिकित्सा उपाय है। आयुर्वेद के द्वारा यौन रोग, यौन दुर्बलता, आंशिक व नपुंसकता का सही विधि से इलाज किया जा सकता है। आयुर्वेद के अंदर मुख्य चिकित्सा ग्रंथ चरक संहिता, सुश्रुत संहिता में संभोग शक्ति को बढ़ाने,यौन विकार व यौन दुर्बलता से संबंध रखने वाले सभी कारणों को …

नपुंसकता (मर्दाना कमज़ोरी) के कारण, लक्षण, घरेलू उपाय/उपचार Read More »

गिलोय Geloy परिचय, गुण धर्म और घरेलू औषधीय प्रयोग।

परिचय :-  जैसे महामृत्युंजय मंत्र संजीवनी मंत्र है वैसे ही गिलोय संजीवनी बूटी है।इसका सेवन प्राण को संचित करने वाला है। गिलोय या गुडूची के गुणों के कारण ही आयुर्वेद में इसका नाम अमृता रखा गया है जिसका मतलब है कि यह औषधि बिल्कुल अमृत समान है।   इसके पत्ते पान के पत्ते की तरह होते हैं। आयुर्वेद …

गिलोय Geloy परिचय, गुण धर्म और घरेलू औषधीय प्रयोग। Read More »

आंबा हल्दी – Amba Haldi – परिचय, गुण धर्म और औषधीय प्रयोग।

आंबा हल्दी परिचय (Amba Haldi Introduction) हल्दी के पौधे  पौधे 2 या 3 फुट ऊंचे होते हैं और पत्ते केले के पत्ते के समान  लम्बे तथा नुकीले होते हैं।  होते हैं। आंबा हल्दी की गांठ बड़ी और भीतर से लाल होती है, किन्तु हल्दी की गांठ छोटी और पीली होती है। आंबा हल्दी में सिकुड़न …

आंबा हल्दी – Amba Haldi – परिचय, गुण धर्म और औषधीय प्रयोग। Read More »

अश्वगंधा Aswghanda – परिचय, गुण धर्म और औषधीय प्रयोग।

परिचय :- अश्वगंधा (Withania somnifera) एक पौधा (क्षुप) है। यह विदानिया कुल का पौधा है। विदानिया की विश्व में 10 तथा भारत में 2 प्रजातियाँ पायी जाती हैं।भारत में पांरपरिक रूप से अश्वगंधा आयुर्वेदिक चिकित्सा पद्धति में प्रयोग किया जाने वाला एक महत्वपूर्ण पौधा है। इसकी ताजा पत्तियों तथा जड़ों में घोड़े की मूत्र की …

अश्वगंधा Aswghanda – परिचय, गुण धर्म और औषधीय प्रयोग। Read More »

खांसी की समस्या कारण, लक्षण आयुर्वेदिक घरेलू उपाय और उपचार

आयुर्वेद में खांसी को कास रोग भी कहा जाता है। खांसी होने ये पहले रोगी को गले में खरखरापन, खराश, खुजली आदि होती है और गले में कुछ भरा हुआ-सा महसूस होता है। कभी-कभी मुंह का स्वाद बिगड़ जाता है और भोजन के प्रति अरुचि हो जाती है। खांसी की समस्या सर्दि‍यों में अधि‍क होती …

खांसी की समस्या कारण, लक्षण आयुर्वेदिक घरेलू उपाय और उपचार Read More »

हरड़ / हरीतकी परिचय, गुण धर्म और औषधीय प्रयोग।

परिचय :- अमृतम हरड़ – विजयासर्वरोगेषु अर्थात हरड़ सभी रोगों पर विजयी है।  हरीतकी / हरड़ (वानस्पतिक नाम:Terminalia chebula) एक ऊँचा वृक्ष होता है एवं भारत में विशेषतः निचले हिमालय क्षेत्र में रावी तट से लेकर पूर्व बंगाल-आसाम तक पाँच हजार फीट की ऊँचाई पर पाया जाता है। हिन्दी में इसे ‘हरड़’ और ‘हर्रे’ भी …

हरड़ / हरीतकी परिचय, गुण धर्म और औषधीय प्रयोग। Read More »

बुखार

बुखार परिचय :- ज्वर बुखार आर्युवेद के सुप्रसिद्ध ग्रंथ सुश्रुत के उत्तर तंत्र में लिखा है। जन्मादौ निधने चैव प्रायो विशति देहिना:।अत: सर्व विकाराणामयं राजा प्रकीर्तित:।। अर्थात जन्म के समय से मृत्यु पर्यंत ज्वर प्रत्येक प्राणी के शरीर में निवास करता है तथा इसे सब रोगों का राजा कहा जाता है।चरक के अनुसार जीव के …

बुखार Read More »

बहेड़ा परिचय, गुण धर्म और सेवन के औषधीय प्रयोग।

परिचय :- बहेड़ा बहुत काम का फल है इसे हिन्दी में बहेड़ा, संस्कृत में विभीतक, अंग्रेजी में बेलेरिक मिरोबोलम (Beleric Myrobalan), कहते है। इसका रंग भूरा पीलापन लिए होता है। बहेड़ा के पेड़ बहुत ऊंचे, फैले हुए और लंबे होते हैं। इसके पेड़ 18 से 30 मीटर तक ऊंचे होते हैं जिसकी छाल लगभग 2 …

बहेड़ा परिचय, गुण धर्म और सेवन के औषधीय प्रयोग। Read More »

आंवला परिचय, गुण धर्म और सेवन के औषधीय प्रयोग।

परिचय :- यह फल देने वाला वृक्ष है। यह करीब 20 फीट से 25 फीट तक लंबा पौधा होता है। यह एशिया के अलावा यूरोप और अफ्रीका में भी पाया जाता है। हिमालयी क्षेत्र और प्रायद्वीप भारत में आंवले के पौधे बहुतायत में मिलते हैं। इसके फल सामान्य रूप से छोटे होते हैं। लेकिन प्रसंस्कृत …

आंवला परिचय, गुण धर्म और सेवन के औषधीय प्रयोग। Read More »

काली मिर्च परिचय, गुण धर्म और सेवन के लाभ

परिचय :- काली मिर्च (Black Pepper) को कई सौ साल पहले मसालों का राजा कहा गया था। भारत और यूरोप के बीच शुरू हुए शुरुआती व्यापार में भी काली मिर्च का सौदा किया जाता था। भारत में काली मिर्च हर घर की रसोई के अंदर का मुख्य मसाला है।  वनस्पति जगत्‌ में पिप्पली कुल (Piperaceae) के …

काली मिर्च परिचय, गुण धर्म और सेवन के लाभ Read More »